असहयोग आंदोलन के कोई चार कारणों को समझाइए

असहयोग आंदोलन भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में एक महत्वपूर्ण घटना थी। यह 1920 और 1922 के बीच हुआ और इसका नेतृत्व महात्मा गांधी ने किया था। इस आंदोलन ने लोगों से विभिन्न तरीकों से ब्रिटिश सरकार के साथ सहयोग करना बंद करने का आग्रह किया। इस आंदोलन के पीछे कई महत्वपूर्ण कारण थे।

असहयोग आंदोलन के कोई चार कारणों को समझाइए

असहयोग आंदोलन के मुख्य तीन कारण निम्नलिखित है-

1. जलियांवाला बाग हत्याकांड

असहयोग आंदोलन का एक मुख्य कारण भयानक जलियांवाला बाग नरसंहार था। 1919 में, एक ब्रिटिश अधिकारी जनरल डायर ने अपने सैनिकों को अमृतसर में शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों की एक बड़ी भीड़ पर गोली चलाने का आदेश दिया। इस भयावह घटना के परिणामस्वरूप कई निर्दोष लोगों की जान चली गई। लोग इस क्रूर कृत्य से बहुत आहत और क्रोधित थे। वे खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे थे और अंग्रेजों को दिखाना चाहते थे कि वे इस तरह की हिंसा को स्वीकार नहीं कर सकते।

2. खिलाफत आंदोलन

खिलाफत आंदोलन एक अन्य महत्वपूर्ण कारक था जिसने असहयोग आंदोलन को जन्म दिया। प्रथम विश्व युद्ध के बाद, ऑटोमन साम्राज्य, जो मुस्लिम दुनिया का केंद्र था, को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ा। भारत पर नियंत्रण रखने वाले अंग्रेजों ने ऐसे काम किए जिससे दुनिया भर के मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुंची। भारतीय मुसलमान इस बात से बहुत चिंतित थे। वे ओटोमन साम्राज्य में अपने मुस्लिम भाइयों और बहनों का समर्थन करना चाहते थे।

महात्मा गांधी ने सोचा कि यदि हिंदू और मुस्लिम एक समान उद्देश्य के लिए एक साथ आते हैं, तो इससे स्वतंत्रता की लड़ाई मजबूत होगी। इसलिए, उन्होंने खिलाफत आंदोलन के नेताओं से हाथ मिला लिया। हिंदू और मुसलमानों के बीच यह एकता असहयोग आंदोलन का एक महत्वपूर्ण कारण थी।

3. आर्थिक कठिनाइयाँ

उस दौरान कई भारतीय आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। ब्रिटिश सरकार ने नमक जैसी सामान्य वस्तु, जो हर घर के लिए एक आवश्यक वस्तु थी, पर भारी कर लगा दिया। उन्होंने वस्तुओं की कीमतों को भी नियंत्रित किया, जिससे लोगों के लिए जीवन यापन करना कठिन हो गया। गरीब और गरीब होते जा रहे थे, और अमीर और अमीर होते जा रहे थे।

महात्मा गांधी जानते थे कि यह आर्थिक बोझ आम लोगों के जीवन को बहुत कठिन बना रहा है। उनका मानना था कि यदि उन्होंने अंग्रेजों के साथ सहयोग करना बंद कर दिया, तो इससे उन पर इन अनुचित नीतियों को बदलने का दबाव पड़ेगा। यही कारण है कि उन्होंने लोगों को ब्रिटिश वस्तुओं और सेवाओं का बहिष्कार करने और इसके बजाय अपना सामान खुद बनाने के लिए प्रोत्साहित किया।

4. स्वशासन की इच्छा

भारतीय ऐसी सरकार द्वारा शासित होने से थक गए थे जो उनकी जरूरतों को नहीं समझती थी या उनकी परवाह नहीं करती थी। वे चाहते थे कि उनका अपना देश कैसे चले, इस पर उन्हें अपनी राय रखनी चाहिए। महात्मा गांधी का मानना था कि अगर लोग अंग्रेजों के साथ सहयोग करना बंद कर दें तो इससे दुनिया को पता चल जाएगा कि भारतीय खुद शासन करने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने लोगों को अपने समुदाय की जिम्मेदारी लेने और मिलकर निर्णय लेने के लिए प्रेरित किया। स्वशासन का यह विचार असहयोग आंदोलन के पीछे एक शक्तिशाली शक्ति थी।

Read More – भारत छोड़ो आन्दोलन और इसका महत्व

निष्कर्ष

असहयोग आंदोलन भारत की स्वतंत्रता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था। यह अन्याय की गहरी भावना और बेहतर, न्यायपूर्ण भविष्य की इच्छा से प्रेरित था। जलियांवाला बाग नरसंहार, खिलाफत आंदोलन, आर्थिक कठिनाइयां और स्वशासन की लालसा चार मुख्य कारण थे जिन्होंने भारतीयों को इस आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

एक साथ काम करके और अनुचित व्यवहार के खिलाफ खड़े होकर, भारत के लोगों ने दुनिया को दिखाया कि वे अपना भाग्य खुद तय करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह आंदोलन इस बात का एक सशक्त उदाहरण है कि जब लोग एक समान उद्देश्य के लिए एक साथ आते हैं तो क्या हासिल किया जा सकता है।

Leave a Comment

edusradio.in

Welcome to EdusRadio, your ultimate destination for all things related to jobs, results, admit cards, answer keys, syllabus, and both government and private job opportunities.

Dive into a world of valuable information, thoughtfully curated in Hindi by EdusRadio.in, ensuring you're always in the loop.