वायुमंडल से आप क्या समझते हैं? वायुमंडल की परतें, महत्व एवं प्रभाव

वायुमंडल से आप क्या समझते हैं? (Vayumandal Se Aap Kya Samajhte Hain)

वायुमंडल गैस की एक परत है जो पृथ्वी को चारों ओर से घेरे हुए है। यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण द्वारा अपनी जगह पर बना हुआ है। वायुमंडल लगभग 78% नाइट्रोजन, 21% ऑक्सीजन और 1% अन्य गैसों से बना है , जिसमें आर्गन, कार्बन डाइऑक्साइड और जल वाष्प शामिल हैं।

वायुमंडल कई तरीकों से पृथ्वी पर जीवन की रक्षा करता है। सबसे पहले, यह सूर्य से आने वाले हानिकारक विकिरण, जैसे पराबैंगनी (यूवी) विकिरण को रोकता है। यूवी विकिरण त्वचा कैंसर और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। दूसरा, वायुमंडल पृथ्वी के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह दिन के दौरान सूरज की गर्मी को सोख लेता है और रात में छोड़ देता है। इससे पृथ्वी के तापमान को बहुत अधिक गर्म या बहुत ठंडा होने से बचाने में मदद मिलती है। तीसरा, वातावरण हमें वह वायु प्रदान करता है जिसमें हम साँस लेते हैं। वायुमण्डल के बिना हम जीवित नहीं रह पायेंगे।

वायुमंडल की परतें (Vayumandal Ki Parte)

वायुमंडल को पाँच परतों में विभाजित किया गया है: क्षोभमंडल, समतापमंडल, मध्यमंडल, थर्मोस्फीयर और बाह्यमंडल। प्रत्येक परत की अपनी अनूठी विशेषताएँ होती हैं।

1. क्षोभमंडल

क्षोभमंडल वायुमंडल की सबसे निचली परत है। यह पृथ्वी की सतह से लगभग 10 किलोमीटर (6 मील) ऊंचाई तक फैला हुआ है। क्षोभमंडल वह जगह है जहां अधिकांश मौसम होते हैं, जैसे बादल, बारिश और बर्फ।

2. समतापमंडल

समतापमंडल क्षोभमंडल के ऊपर वायुमंडल की परत है। यह लगभग 10 किलोमीटर (6 मील) से लेकर 50 किलोमीटर (31 मील) ऊंचाई तक फैला हुआ है। समताप मंडल वह जगह है जहां ओजोन परत स्थित है। ओजोन परत गैस की एक परत है जो हमें सूर्य से आने वाले हानिकारक यूवी विकिरण से बचाती है।

3. मध्यमंडल

मध्यमंडल समतापमंडल के ऊपर वायुमंडल की परत है। यह लगभग 50 किलोमीटर (31 मील) से लेकर 80 किलोमीटर (50 मील) की ऊँचाई तक फैला हुआ है। मेसोस्फीयर वायुमंडल की सबसे ठंडी परत है।

4. थर्मोस्फीयर

थर्मोस्फीयर मेसोस्फीयर के ऊपर वायुमंडल की परत है। यह लगभग 80 किलोमीटर (50 मील) से लेकर 500 किलोमीटर (311 मील) की ऊँचाई तक फैला हुआ है। थर्मोस्फीयर बहुत गर्म है और इसमें कई आवेशित कण होते हैं।

5. बाह्यमंडल

बाह्यमंडल वायुमंडल की सबसे बाहरी परत है। यह लगभग 500 किलोमीटर (311 मील) से लेकर 10,000 किलोमीटर (6,214 मील) की ऊँचाई तक फैला हुआ है। बहिर्मंडल बहुत पतला है और इसमें बहुत कम गैस अणु होते हैं।

वातावरण का महत्व (vatavaran ka mahatva)

पृथ्वी पर जीवन के लिए वायुमंडल आवश्यक है। यह हमें वह हवा प्रदान करता है जिसमें हम सांस लेते हैं, हमें हानिकारक विकिरण से बचाता है और पृथ्वी के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है। वायुमण्डल के बिना हम जीवित नहीं रह पायेंगे।

वायुमंडल पर मानव प्रभाव

मानवीय गतिविधियाँ वातावरण पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल रही हैं। उदाहरण के लिए, जीवाश्म ईंधन के जलने से वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैसें निकलती हैं। ग्रीनहाउस गैसें सूर्य की गर्मी को सोख लेती हैं, जिससे पृथ्वी की जलवायु में बदलाव आ रहा है। जलवायु परिवर्तन का ग्रह पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है, जैसे समुद्र के स्तर में वृद्धि, अधिक चरम मौसम की घटनाएं और पौधों और जानवरों के जीवन में परिवर्तन।

हम वातावरण की सुरक्षा के लिए क्या कर सकते हैं?

वातावरण की सुरक्षा के लिए हम कई चीजें कर सकते हैं, जैसे:

  • जीवाश्म ईंधन पर हमारी निर्भरता कम करना और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों पर स्विच करना
  • ऊर्जा दक्षता में सुधार
  • वस्तुओं और सेवाओं की हमारी खपत को कम करना
  • पेड़-पौधे और अन्य वनस्पतियाँ लगाना

ये कदम उठाकर हम वातावरण की रक्षा करने और भावी पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ ग्रह सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं।

वायुमंडल पृथ्वी के पारिस्थितिकी तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह हमें हानिकारक विकिरण से बचाता है, पृथ्वी के तापमान को नियंत्रित करता है, और हमें वह हवा प्रदान करता है जिसमें हम सांस लेते हैं। मानवीय गतिविधियों का वातावरण पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ रहा है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम इसकी सुरक्षा के लिए कदम उठाएँ। जीवाश्म ईंधन पर अपनी निर्भरता कम करके, ऊर्जा दक्षता में सुधार करके, अपनी खपत कम करके और पेड़ लगाकर, हम भावी पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ ग्रह सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं।

यहां वातावरण के बारे में कुछ अतिरिक्त विवरण दिए गए हैं

  • वातावरण निरंतर गतिमान है। वायुदाब और तापमान में अंतर के कारण हवाएँ चलती हैं।
  • वायुमंडल में बादल, वर्षा, हिम और हिम के रूप में जलवाष्प मौजूद है ।
  • वायुमंडल में एरोसोल भी होते हैं, जो धूल, धुआं और नमक के छोटे कण होते हैं।
  • जीवाश्म ईंधन जलाने और वनों की कटाई जैसी मानवीय गतिविधियों के कारण वातावरण लगातार बदल रहा है ।

Leave a Comment

edusradio.in

Welcome to EdusRadio, your ultimate destination for all things related to jobs, results, admit cards, answer keys, syllabus, and both government and private job opportunities.

Dive into a world of valuable information, thoughtfully curated in Hindi by EdusRadio.in, ensuring you're always in the loop.